नई दिल्ली: केंद्र सरकार और किसानों के बीच विज्ञान भवन में चल रही 11वें दौर की वार्ता खत्म हो गई है. शुक्रवार को हुई इस बैठक में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, ‘सरकार आपके सहयोग के लिए आभारी है. कानून में कोई कमी नही है. हमने आपके सम्मान में प्रस्ताव दिया था. आप निर्णय नहीं कर सके.आप अगर किसी निर्णय पर पहुंचते है तो सूचित करें. इस पर फिर हम चर्चा करेंगे. आगे की कोई तारीख तय नहीं है.’
किसान आंदोलन के लगभग 55 दिन से ज्यादा हो चुके है. सरकार ने कहा कि हमने किसानों को एक प्रस्ताव दिया और अगर उनके पास बेहतर प्रस्ताव है तो वे हमारे पास आ सकते हैं.

केंद्र सरकार के साथ 11वें दौर की बैठक खत्म होने के बाद राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव कुमार कक्का ने कहा, ‘लंच ब्रेक से पहले, किसान नेताओं ने कानूनों को रद्द करने की अपनी मांग दोहराई और सरकार ने कहा कि वे संशोधन के लिए तैयार हैं. मंत्री ने हमें सरकार के प्रस्ताव पर विचार करने के लिए कहा और उसके बाद मंत्री बैठक से चले गए.’
सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले को लेकर सुनवाई जारी है। कोर्ट ने इसके लिए एक कमेटी का गठन भी कर दिया है. कमेटी को लेकर भी तकरार है. हालांकि सरकार ने 10वें दौर की वार्ता में किसानों के समक्ष तीनों कानूनों के क्रियान्वयन को डेढ़ साल तक स्थगित करने का प्रस्ताव रखा था लेकिन किसान संगठनों ने उनके इस प्रस्ताव को भी खारिज कर दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here