नई दिल्ली: शुक्रवार को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एक्सपर्ट की टीम को अस्पतालों में विजिट करना चाहिए और अदालत ने कहा कि कोरोना मरीज की मौत के बाद डेड बॉडी के रखरखाव के मामले में जो खामियां हैं उसे दूर किया जाए। कोर्ट ने साथ ही कहा कि देश भर में कोरोना टेस्ट का एक ही रेट होना चाहिए।

अदालत ने केंद्र सरकार को इस मसले पर फैसला लेने के लिए कहा। शीर्ष अदालत ने कहा कि कोविड- 19 टेस्टिंग के लिए उचित दर तय की जानी चाहिए। देशभर में इस संबंध में एकरूपता होनी चाहिए। साथ ही, अदालत ने यह भी कहा कि सभी राज्यों को कोविड-19 के मरीजों की उचित देखभाल सुनिश्चित करने के लिए अस्पतालों के निरीक्षण को लेकर विशेषज्ञों की समिति गठित करनी चाहिए।

न्यायमूर्ति भूषण ने कहा, कोरोना वायरस के परीक्षणों के लिए उचित दर तय की जानी चाहिए। देशभर में इस संबंध में एकरूपता होनी चाहिए। कोर्ट ने यह भी कहा कि सभी वार्डों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह मरीज की देखभाल की निगरानी सुनिश्चित करने के लिए अस्पतालों में सीसीटीवी कैमरे लगाने का आदेश पारित कर सकता है।

Also Read…जानिए दिल्ली में अब कोरोना का इलाज कितना सस्ता हुआ? https://theoutreach8.com/बड़ी-खबर-दिल्ली-में-कोरोन/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here