गोरखपुर: डॉक्टर कफील खान को मथुरा जेल से रिहा कर दिया गया है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉ. कफील को तुरंत रिहा करने के आदेश दिए थे. मंगलवार देर रात उन्हें जेल से रिहा किया गया. जेल से रिहाई के बाद कफील ने कोर्ट का शुक्रिया अदा किया.
संघर्ष में साथ देने वाले सभी का धन्यवाद
रिहा होने के बाद डॉ कफील ने मथुरा जेल प्रशासन और योगी सरकार पर हमला बोला. उन्होंने राज्य सरकार पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है.
रिहा होने के बाद डॉक्टर कफील खान ने कहा, ‘मैं जुडिशरी का बहुत शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने इतना अच्छा ऑर्डर दिया है। सभी 138 करोड़ देशवासियों का धन्यवाद और उन लोगों का धन्यवाद जिन्होंने संघर्ष में मेरा साथ दिया.’
डॉक्टर कफील खान ने कहा, ‘रामायण में महर्षि वाल्मीकि ने कहा था कि राजा राज धर्म के लिए काम करना चाहिए. लेकिन उत्तर प्रदेश में राजा राज धर्म नहीं निभा रहे हैं. बल्कि बाल हठ (बच्चों की तरह जिद्दी) कर रहे हैं.’

मैं जुडिशरी का बहुत शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने इतना अच्छा ऑर्डर दिया है. उत्तर प्रदेश सरकार ने एक झूठा बेसलेस केस मेरे ऊपर थोपा. बिना बात के ड्रामा करके केस बनाए गए और 8 महीने तक इस जेल में रखा. इस जेल में मुझे पांच दिन तक बिना खाना, बिना पानी दिए मुझे प्रताड़ित किया गया. मैं उत्तर प्रदेश के एसटीएफ को भी धन्यवाद दूंगा, जिन्होंने मुंबई से मथुरा लाते समय मुझे एनकाउंटर में मारा नहीं.

डॉक्टर कफील खान


बता दें कि डॉ. कफील खान को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), एनआरसी और एनपीए के विरोध के दौरान कथित रूप से भड़काऊ भाषण देने के आरोप में उत्तर प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार किया था. हालांकि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉ. कफील को तुरंत रिहा करने के आदेश दिए. कोर्ट ने आदेश सुनाते हुए कहा था कि एनएसए के तहत डॉक्टर कफील को हिरासत में लेना और हिरासत की अवधि को बढ़ाना गैरकानूनी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here