नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए देशभर में कोविड-19 वैक्सीनेशन अभियान का शुभारंभ किया। दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया की मौजूदगी में एम्स में कोरोना वायरस का वैक्सीनेशन शुरू हुआ. इन दोनों की मौजूदगी में एम्स में एक सफाई कर्मचारी को कोरोना वायरस का पहला टीका लगाया गया.
AIIMS के सैनिटेशन डिपार्टमेंट के कर्मचारी को लगा देश का पहला कोरोना टीका
एम्स में सबसे पहला टीका सैनिटेशन डिपार्टमेंट के एक कर्मचारी मनीष कुमार को लगाया गया. इसके साथ ही मनीष कुमार कोरोना का वैक्सीन लेने वाले देश के पहले नागरिक बन गए हैं. इसके बाद एम्स के सीनियर डॉक्टर टीका ले रहे हैं.
एम्स अस्पताल में पहली वैक्सीन लगवाने वाले सफाई कर्मचारी मनीष कुमार ने कहा, ”मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा है, वैक्सीन लगने से मुझे कोई झिझक नहीं होगी और मैं अपने देश की और सेवा करता रहूंगा। लोगों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है। मेरे मन में जो डर था वो भी निकल गया। सबको वैक्सीन लगवानी चाहिए.”
टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत के मौके पर दिल्ली के एनएनजेपी अस्पताल पहुंचे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, ”दिल्ली के 81 सेंटर्स पर आज 8100 लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. मैं लोगों से अपील करता हूं कि अफवाहों पर ध्यान ना दें. एक्सपर्ट ने बताया है कि वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित हैं.” वहीं दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा, ”दिल्ली में आज से वैक्सीनेशन शुरू हुआ है. 81 केंद्रों पर यह वैक्सीनेशन एक साथ शुरू की गई है जिसमें ज़्यादातर अस्पताल हैं. एक केंद्र पर 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी. कुल मिलाकर आज 8100 लोगों को वैक्सीन लगाने की योजना है.”

मुंबई के कूपर अस्पताल में महाराष्ट्र के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और शिवसेना नेता डॉ. दीपक सावंत और उनकी पत्नी को कोरोना का पहला टीका लगाया गया है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद कहा, ‘मुझे आज बहुत खुशी है, वैक्सीन COVID-19 के खिलाफ जंग में संजीवनी का काम करेगी. भारत ने पहले पोलियो और चेचक के खिलाफ जंग जीती है और अब भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोविड-19 के खिलाफ जंग जीतने के निर्णायक दौर में पहुंच चुका है’.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here