हाईलाइट
• 12 मई से शुरू होगा यात्री ट्रेनों की संचालन, नई दिल्ली से चलेंगी सभी ट्रेनें
• शुरुआती दिनों में केवल विशेष ट्रेनों की संचालन किया जाएगा, यात्रियों के स्वास्थ्य को होगी व्यापक जांच

नई दिल्ली:  भारतीय रेलवे 12 मई से पैसेंजर ट्रेन की सेवा शुरू करने की योजना बना रहा है। शुरू में 15 जोड़ी ट्रेनें चलाई जाएंगी और बाद में इसे बढ़ाने की तैयारी है। ये सभी स्पेशल ट्रेन होंगी जिन्हें नई दिल्ली से देश के अलग-अलग 15 हिस्सों में भेजा जाएगा।

रेल मंत्रालय ने इसे लेकर एक विस्तृत योजना का निर्माण किया है। शुरुआत में कम संख्या में ही ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। इस दौरान लोगों के स्वास्थ्य और कोरोना संक्रमण की जांच भी की जाएगी।

दिल्ली से इन 15 शहरों के लिए चलेंगी ट्रेन

15 डेस्टिनेशन के लिए। पहले चरण में नई दिल्ली से डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मडगांव, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू तवी के लिए विशेष ट्रेनों का संचालन होगा।

सोमवार से बुकिंग शुरू
नई दिल्ली से चलाई जाने वाली ट्रेनों के आरक्षण के लिए बुकिंग 11 मई को शाम चार बजे से शुरू होगी और केवल IRCTC की वेबसाइट पर उपलब्ध होगी। रेलवे स्टेशनों पर टिकट बुकिंग काउंटर बंद रहेंगे और कोई काउंटर टिकट (प्लेटफॉर्म टिकट सहित) जारी नहीं किया जाएगा। सभी कोच एसी और स्टॉप भी बेहद सीमित होंगे। इन ट्रेनों में यात्रा के लिए राजधानी ट्रेनों के बराबर किराया देना होगा। 

11 मई से मिलेगा ऑनलाइन टिकट
इन ट्रेनों के लिए रिजर्वेशन शाम 4 बजे से 11 मई को शुरु किया जाएगा। ट्रेन टिकट केवल आईआरसीटीसी की वेबसाइट www.irctc.co.in पर उपलब्ध होंगे। रेलवे स्टेशन पर टिकट बुकिंग काउंटर बंद रखे जाएंगे। टिकट काउंटर से कोई भी टिकट नहीं जारी किया जाएगा। मतलब साफ है कि यात्री सिर्फ ऑनलाइन ही टिकट खरीद सकते हैं।


ट्रेन से उतरने के बाद घर जाने की अनुमति होगी या क्वारेंटाइन सेंटर में रहना होगा?
रेलवे ने इस पर स्थिति स्पष्ट नहीं की है। हालांकि, श्रमिक स्पेशल से यात्रा करने वालों को घर जाने से पहले 21 दिन क्वारंटीन सेंटर में रहता होता है।

नियम का पालन करना जरूरी है
केवल वैध कंफर्म टिकट वाले यात्रियों को रेलवे स्टेशनों में प्रवेश करने की अनुमति होगी। प्रोटोकॉल के तहत यात्रियों को स्टेशन पर कम से कम एक घंटे पहले पहुंचना होगा।यात्रियों को प्रवेश के दौरान मास्क अनिवार्य होगा और प्रस्थान के समय स्क्रीनिंग से गुजरना होगा और सिर्फ यात्रियों को ट्रेन में चढ़ने की अनुमति होगी। सिर्फ उन्हीं लोगों को ट्रेन में चढ़ने की अनुमति होगी जिनमें वायरस से संक्रमण के कोई लक्षण नजर नहीं आएंगे। आरोग्य सेतू एप जरूर डाउनलोड होना चाहिए।

क्या जनरल भी कोच उपलब्ध होंगे?
नहीं, 12 मई से शुरू हो रही ट्रेनों में केवल एसी कोच ही शामिल होंगे। जिनमें 1 एसी, 2 एसी और 3 एसी के कोच लगे रहेंगे। इन ट्रेनों में कोई भी स्लीपर या जनरल क्लास की बोगी नहीं होगी।

किराया कितना लगेगा?
इन स्पेशल ट्रेनों में राजधानी के बराबर किराया होगा। इसका सीधा असर सफर कर रहे यात्री की जेब पर पड़ेगा। लॉकडाउन के दौरान जिस भी यात्री को सफर करने की जरूरत होगी उसे ज्यादा पैसा खर्च करना होगा।

फ्लू के लक्षण दिखे तो नहीं मिलेगी एंट्री

केवल उन्हीं यात्रियों को ट्रेन में चढ़ने की इजाजत दी जाएगी जिनका टिकट कन्फर्म है. रेलवे स्टेशन के भीतर भी केवल ऐसे ही यात्रियों को आने की अनुमति दी जाएगी. हर यात्री के लिए डिपार्चर पर जाने से पहले चेहरे को ढकना अनिवार्य होगा. ऐसे ही यात्रियों को कोच में जाने की इजाजत मिलेगी जिनमें फ्लू के कोई लक्षण न दिखें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here