हाईलाइट
• देश को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में बांट सकती है मोदी सरकार
• धीरे-धीरे उद्योग और कारोबार की गाड़ी आएगी पटरी पर

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता ही जा रहा है और इसके मरीजों की संख्या 8300 पार कर गई है। इस बीच खबर है कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लॉकडाउन बढ़ाने के प्रस्ताव पर केंद्र की मोदी सरकार देश को तीन जोन में बांट सकती है। सरकारी सूत्रों की मानें तो केंद्र सरकार कोविड-19 मामलों की संख्या के आधार पर देश को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में बांटने पर विचार कर रही है। इस तरह के जोन में बांट कर सरकार कुछ छूट दे सकती है। बता दें कि लॉकडाउन की मियाद 14 अप्रैल को खत्म हो रही है और कई राज्यों ने इसे बढ़ाने की मांग की है।

मंगलवार 14 अप्रैल को लॉकडाउन फेस-1 खत्म हो रहा है। केंद्रीय सचिवालय सूत्रों का कहना है कि इसके ठीक पहले 13 अप्रैल को प्रधानमंत्री लॉकडाउन-2 की घोषणा करते हुए जनता को फिर से आत्मअनुशासन का पाठ पढ़ाएंगे।

किस जोन में क्या क्या रियायत मिल सकती है?

सूत्रों के मुताबिक इस वर्गीकरण के अनुसार ही गतिविधियों की अनुमति होगी. मुख्यमंत्री राज्यों के बीच यातायात शुरू करने के पक्ष में नहीं हैं, लेकिन ग्रीन ज़ोन में खेती, मज़दूरी, लघु व सूक्ष्म उद्योग तथा शराब की दुकानें खोली जा सकती हैं. ऑरेंज ज़ोन में नियंत्रित संख्या में जन यातायात शुरू हो सकता है, जबकि रेड ज़ोन में अभी की तरह पूरी तरह से लॉक डाउन रखने की बात है. स्कूल-कॉलेज सभी जगह बंद रहेंगे. हवाई यात्रा, रेल और बस सेवा पर भी रोक जारी रखने की बात है. संभावना है कि अगले 48 घंटों में सरकार इस बारे में विस्तृत दिशा निर्देश जारी करेगी

ग्रीन जोन में आने वाले कुछ छोटे उद्योगों को भी खोलने की इजाजत दी जा सकती है, मगर कर्मचारियों को कंपनी में ही रहने को कहा जा सकता है। साथ ही उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करना होगा। बता दें कि सरकार पहले ही इस ओर इशारा कर चुकी है कि देश को पूरी तरह से लॉकडाउन नहीं किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here