कानपूर: पांच लाख के इनामी बदमाश विकास दुबे की मदद करने के आरोप में चौबेपुर पुलिस स्टेशन के निलंबित एसओ विनय तिवारी को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया गया है. बता दें कि विनय तिवारी से बुधवार सुबह से ही पूछताछ चल रही थी. मुठभेड़ के समय पुलिस टीम की जान खतरे में डालने और मौके से फरार होने के साथ ही अपराधी विकास दुबे से संबंध में इन्हें गिरफ्तार किया गया है. आईजी मोहित अग्रवाल और एसएसपी दिनेश कुमार पी इनकी गिरफ्तारी की पुष्टि की है. दोनों को जेल भेज दिया गया है.

चौबेपुर थानांतर्गत ही बिकरू गांव आता है। गैंगस्टर विकास दुबे को बचाने में चौबेपुर थाने के इंस्पेक्टर विनय तिवारी तथा अन्य पुलिसकर्मियों की संलिप्तता के आरोप लगने के बाद इसकी जांच के आदेश दिए गए थे. शुरुआती जांच में यह सही पाया गया. जांच में सामने आया कि थाने में तैनात कई पुलिस उपनिरीक्षक, हेड कॉन्स्टेबल और कॉन्स्टेबल हिस्ट्रीशीटर दुबे के लिए मुखबिरी कर रहे थे.

बता दें इस मामले में एसओ विनय तिवारी, दरोगा कुंवर पाल, केके शर्मा और सिपाही राजीव चौधरी पहले ही निलंबित किए जा चुके हैं. इतना ही नहीं एसएसपी ने पूरे थाने के बाकी 68 स्टाफ को भी लाइन हाजिर कर दिया है. सभी के खिलाफ जांच जारी है. अब चौबेपुर थाने में 55 नए पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here