नई दिल्ली: देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत नाजुक है. वह अभी भी वेंटिलेटर सपोर्ट पर है. इस बीच पूर्व राष्ट्रपति की बेटी शर्मिष्ठा ने ट्वीट कर पिछले साल अपने पिता को मिले भारत रत्न सम्मान को याद किया है.

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने ट्वीट किया, ‘पिछले साल 8 अगस्त को मेरे लिए सबसे खुशी वाला दिन था, क्योंकि मेरे पिता को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था. ठीक एक साल बाद 10 अगस्त को वह गंभीर रूप से बीमार पड़ गए हैं. भगवान उनके लिए सबकुछ अच्छा करें और मुझे जीवन के सुख और दुख दोनों को समान भाव से स्वीकार करने की शक्ति दें. मैं उनकी चिंताओं के लिए ईमानदारी से सभी को धन्यवाद देती हूं.

भारत रत्न से सम्मानित पूर्व राष्ट्रपति को सोमवार दोपहर लगभग 12 बजे गंभीर स्थिति में धौलाकुआं स्थित आर्मी अस्पताल में भर्ती किया गया था. जांच में पाया गया कि उनके मस्तिष्क में खून का बड़ा थक्का जमा था. इस वजह से उनकी तत्काल सर्जरी जरूरी थी. सर्जरी से पहले कोरोना की जांच भी की गई, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इसके बाद प्रणब ने ट्वीट कर खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की सूचना दी थी और कहा कि एक हफ्ते में उनके संपर्क में आए लोग भी अपनी जांच करा लें और आइसोलेट हो जाएं.

2012 से 2017 तक देश के राष्ट्रपति रहे

एक प्रभावशाली वक्ता और कई विषयों के विद्वान प्रणब 2012 से 2017 तक देश के राष्ट्रपति रहे थे. राष्ट्रपति पद से सेवानिवृत्त होने के बाद भी वह विभिन्न मसलों पर अपनी राय देते रहे हैं. जून में लद्दाख की गलवन घाटी में चीनी सैनिकों के साथ भारतीय सैनिकों की झड़प के बाद उन्होंने कहा था कि इस घटना से देश की आत्मा को चोट पहुंची है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here