नई दिल्ली: कोरोना वायरस कहर के बीच तबलीगी जमात अब भी सुर्खियों में बना हुआ है। तबलीगी जमात से जुड़े 300 से ज्यादा मरीजों ने ठीक होने के बाद प्लाज्मा दान करने की इच्छा जताई है। वहीं, रविवार और सोमवार को 12 जमातियों ने अपना प्लाजमा भी दान किया। दरअसल, कोरोना के ज्यादातर मामलों के लिए जिम्मेवार माने जाने वाले तबलीगी जमात की काफी आलोचना हुई थी, मगर अब जिस तरह से कोरोना के खिलाफ जंग में आगे बढ़कर आए हैं, वह सराहनीय है।
काफी समय से जमातियों को लेकर मीडिया में बहुत बवाल मचा हुवा था और उन्हें कोरोना संक्रमण को फ़ैलाने के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा था। लेकिन अब आपको बता दे की वही जमाती अब लोगो की जान बचाते नज़र आ रहे है। असल बात ये है की वो कोरोना मरीज़ो की जान बचने के लिए अपने ब्लड प्लाज़्मा को डोनेट कर रहे है।
दरअसल, जो लोग कोरोना पॉजिटिव थे और इलाज के बाद ठीक हो गए, उनके ब्लड से प्लाज़्मा निकलकर दूसरे कोरोना संक्रमित मरीजों को ठीक किया जा सकता है। इस बारे में जब कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके जमतियों को पता चला तो उन्होंने लोगों की जान बचाने के लिए अपना ब्लड प्लाज़्मा डोनेट करने का फैसला किया।
वहीं जमातियों के प्लाज्मा डोनेट करने के फैसले पर आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा- बीमारी कोई जाति-धर्म देख कर नही आती हर धर्म में अच्छे बुरे लोग होते हैं मरकज़ मामले को लेकर पूरे समाज को अपमानित करना कहाँ तक उचित है? जिन जमातियों को लेकर इतनी नफ़रत फैलाई गई आज वही लोगों की ज़िंदगी बचाने के लिये आगे आ रहे हैं “प्लीज़ नफ़रत से बचिये”


आप को बता दें कि प्लाज्मा डोनेट करने वाले जमातियों ने डॉक्टर्स से अपील की है कि लोगों की जान बचाने के लिए उनके खून का एक एक कतरा तक इस्तेमाल किया जाए। उनका का कहना है कि इंसानियत को बचाने के लिए अगर उनका खून काम आए तो इससे अच्छी बात क्या होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here