नई दिल्ली: दुनियाभर को अपनी चपेट में लेने वाला जानलेवा कोरोना वायरस पिछले छह महीनों से तबाही का सबब बना हुआ है. तमाम उपायों के बावजूद इस संक्रमण के ताज़ा आंकड़े सिरहन पैदा करने वाले हैं. इस महामारी के कारण अब तक पांच लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. ऐसे में दुनियाभर में लोग इस संक्रमण के वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. इस बीच रूस से एक अच्छी खबर सामने आई है. रूस के सेचेनोव विश्वविद्यालय का दावा है कि उसने कोविड-19 के लिए वैक्सीन तैयार कर ली है और इसके सभी ट्रायल सफल रहे हैं. अगर रूस में कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल सफल हुआ है तो वह पहला देश बन सकता है जिसने कोरोना वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल की है.

18 जून को टीके का शुरू हुआ था ​​परीक्षण
इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी के निदेशक वदिम तरासोव ने कहा कि विश्वविद्यालय ने 18 जून को रूस के गेमली इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा निर्मित टीके के ​​परीक्षण शुरू किया था. तारासोव ने कहा कि सेचेनोव विश्वविद्यालय ने कोरोनोवायरस के खिलाफ दुनिया के पहले टीके के स्वयं सेवकों पर सफलतापूर्वक परीक्षण पूरा कर लिया है.

कम्पनी का दावा, यह कोविड-19 की जड़ पर वार करती है
कम्पनी का दावा है कि ‘कोरोनाविर’ देश की पहली ऐसी दवा है जो पूरी तरह कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए है. दुनियाभर में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं लेकिन समस्या की जड़ वायरस है। संक्रमित मरीजों में यह दवा कोरोना की संख्या को बढ़ने से रोकती है.

इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी के निदेशक वदिम तरासोव (Vadim Tarasov) ने बताया कि कुछ दिनों पहले वैक्सीन के लिए मनुष्यों पर परीक्षण के लिए कुछ वॉलेंटियर्स को चुना गया था और अब उन लोगों के पहले बैच को बुधवार को जबकि दूसरे बैच को 20 जुलाई को छुट्टी दे दी जाएगी. अगर सब कुछ सही रहा तो हो सकता है कि अब दुनिया को जल्द ही कोरोना को रोकने वाली वैक्सीन मिल जाए .

आपको बता दें कि रूस कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले देशों की लिस्ट में चौथे नंबर पर है. अगर रूस का दावा सही हुआ तो यह पूरी दुनिया के लिए बहुत बड़ी कामयाबी है. विश्व के कई ताकत वर देश कोरोना वैक्सीन बनाने में लगे हुए हैं लेकिन अभी तक किसी भी देश को ह्यूमन ट्रायल पर पूरी तरह से सफलता नहीं मिली है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here