नई दिल्ली: कोरोना महामारी के चलते पिछले साल मार्च माह से कुछ महीनों के लिए लॉकडाउन लागू कर दिया गया था. उस दौरान लोगों पर घरों से बाहर निकलने के अलावा अन्य तमाम तरह की पाबंदियां थीं. ऐसे में रेलवे स्टेशनों पर मिलने वाले प्लेटफॉर्म टिकट भी बिकना बंद हो गए थे. अब यह सुविधा शुरू तो कर दी गई है, लेकिन इसकी कीमत पहले के मुकाबले तीन गुना हो गई है.
पेट्रोल-डीजल और रसोईगैस की कीमतें तो आम आदमी की जेब में छेद कर ही रही हैं वहीं अब रेलवे ने भी प्लेटफॉर्म टिकट के दाम में तीन गुना इजाफा कर दिया है. जिसके बाद 10 रुपये का टिकट अब 30 रुपये में मिलेगा. वहीं देश के कई अन्य शहरों में 10 रुपये का टिकट 50 रुपये का कर दिया है.
यहां 5 गुणा महंगा प्लेटफॉर्म टिकट
दिल्ली के अलावा अगर मुंबई की बात करें तो प्लैटफॉर्म टिकट के रेट को 5 गुणा तक बढ़ा दिया गया है. सेंट्रल रेलवे ने मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन के कुछ प्रमुख स्टेशनों के लिए प्लैटफॉर्म टिकट के रेट को बढ़ा दिया है. छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, लोकमान्य तिलक टर्मिनस, दादर अब आपको 50 रुपये का भुगतान प्लैटफॉर्म टिकट के लिए करना होगा.

लोकल किराया में भी बढ़ोतरी
पैसेंजर ट्रेनों की सेवाओं को अब शुरू क दिया गया है. ऐसे में अब लोकल से यात्रा करने वालों को 10 रुपये के बजाय 30 रुपये देने होंगे. यानी अगर आप दिल्ली से गाजियाबाद की जो टिकट 10 रुपये में खरीदते थे अब उसके लिए आपको 30 रुपये देने होंगे.
रेलवे स्टेशन पर ज्यादा भीड़ न हो इस वजह से उठाया गया कदम
वहीं टिकट के दाम में तीन गुना वृद्धि किए जाने पर रेलवे का तर्क है कि कोरोना महामारी के बीच स्टेशनों पर ज्यादा भीड़ इकट्ठा न हो इस वजह से ये फैसला लिया गया है. रेलवे ने ये भी कहा है कि ये एक अस्थायी कदम है जो यात्रियों के हितों में ध्यान रखते हुए उठाया गया है. गौरतलब है कि प्लेटफार्म टिकट के दाम बढ़ाने का अधिकार लोकल डीआरएम का होता है. प्लेटफॉर्म पर भीड़ को रोकने के लिए डीआरएम दाम बढ़ाते हैं पर सामान्य स्थिति होने पर दाम घटा दिए जाते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here