मीरा रोड: मुंबई में पिछले दो दिन से हो रही बारिश से हालात बद से बदतर हो गए हैं. बुधवार को मुंबईवासियों ने इस सीजन की सबसे तेज बारिश देखी. बारिश के साथ ही उन्हें चक्रवात जैसे खतरनाक हवाओं का भी सामना करना पड़ा. पिछले 46 साल में मुंबई ने ऐसी बारिश नहीं देखी.

बुधवार को लगातार बारिश होने के कारण शहर के कई हिस्सों में पानी भर गया, सब यातायात ठप हो गया, जहां लोग थे वहां ही फंस गए. हालात ये हैं कि सिर्फ 12 घंटे में ही मुंबई के कोलाबा इलाके में इतनी बारिश हो गई जितनी 46 साल में नहीं हुई थी. गुरुवार को भी मुंबई में तेज बारिश का अलर्ट जारी है और तेज हवाएं चलने की बात कही गई है.
मौसम विभाग और बीएमसी की ओर से अपील की जा रही है कि लोग अपने घरों से बाहर ना निकलें, क्योंकि हालात पूरे शहर में खराब हैं और कोई भी कहीं पर फंस सकता है.

घुटने भर पानी में मुंबई

मुंबई के निचले इलाकों में जगह-जगह जलजमाव के कारण पूर्वी उपनगर में कांदिवली-दहिसर और अन्य इलाकों में घरों और दुकानों में पानी भर गया. लोगों को घुटने भर पानी में चलकर स्टेशन आना पड़ा. रेलवे ट्रैक पर भी पानी भर गया। इससे सेंट्रल, वेस्टर्न और हार्बर लाइन की ट्रेनों का परिचालन प्रभावित हुआ. ड्यूटी पर आए हजारों लोग दफ्तरों में ही फंस गए.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की मानें तो मुंबई शहर और उपनगरों में अगले 3-4 घंटों में 60-70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज़ हवाओं के साथ भारी वर्षा होने की संभावना है. कुछ इलाकों में गड़गड़ाहट के साथ बिजलनी भी चमकने की संभावना है.

मौसम विभाग के अनुसार, मुंबई-ठाणे-पालघर जैसे इलाकों में रिकॉर्डतोड़ बारिश हुई है. 12 घंटे के भीतर मुंबई में 215.8 MM तक बारिश हो गई थी, जबकि हवा की रफ्तार भी 100 किमी. प्रति घंटा से अधिक रही. यही कारण है कि कई जगह पेड़, बोर्ड टूटे हुए हैं और घरों को भी नुकसान पहुंचा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देर शाम को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से फोन पर बात की और राज्य के हालात का जायजा लिया. पीएम की ओर से सीएम को केंद्र की ओर से मिलने वाली हर संभव मदद का भरोसा दिलाया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here