नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना की चौथी लहर बेकाबू होती जा रही है। पिछले 24 घंटे में करीब 24 हजार नए केस सामने आए हैं जो पिछले साल के पीक का करीब-करीब तीन गुना है. राष्ट्रीय राजधानी में हालात कितने नाजुक हो चुके हैं, यह खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के चेहरे से भी बयां हो रहा था. वह शनिवार को जब प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए आए तो चेहरे पर चिंता के भाव आसानी से पढ़े जा सकते थे.

बेड और ऑक्सीजन की किल्लत
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की कमी हो गई है, आईसीयू और ऑक्सीजन बेड्स की संख्या भी तेजी से घट रही है. चौथी लहर का पीक कब आएगा, कोई नहीं जानता. उन्होंने केंद्र से अस्पतालों के आधे बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व रखने की गुजारिश की है.
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि पिछले 24 घंटे में दिल्ली में लगभग 24000 कोरोना के केस आए. यह अब तक के सबसे ज़्यादा केस हैं. इससे पहले 19,500 थे अब 24 हजार हो गए. पॉजिटिविटी रेट 24 फ़ीसदी से ज्यादा हो गया है. स्थिति काफी गंभीर और चिंताजनक है.
मुख्यमंत्री ने कहा, “ऑक्सीजन बेड बहुत तेजी से खत्म होते जा रहे हैं. सरकार कोशिश कर रही है कि बेड बढ़ाए जाएं. उम्मीद है कि अगले 2-4 दिन में हम बड़े स्केल पर बेड बढ़ा पाएंगे. यमुना स्पोर्टस कॉम्पलेक्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में लगभग 1300 ऑक्सीजन बेड का इंतजाम किया जा रहा है.”

“राधा स्वामी सतसंग व्यास में 2,500 बेड का इंतजाम कर रहे हैं उसके बाद 2,500 बेड का और इंतजाम करेंगे. होटलों और बैंकेट हॉल को अस्पतालों से अटैच किया जा रहा है. इस तरह 2,100 ऑक्सीजन बेड बनाने में सफल हुए हैं. उम्मीद है कुछ दिन में लगभग 6,000 बेड एड करने में सक्षम होंगे”

सीएम ने कहा कि कोरोना की लड़ाई के दौरान हमें केंद्र सरकार से हमेशा मदद मिली है. “मैं उम्मीद करता हूं कि इस बार भी केंद्र सरकार हमें पूरी मदद देगी. आज अफसरों की बैठक में सख्त निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी दवाईयों की कालाबाजारी करता है तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाए.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here