नई दिल्ली: बहुत जल्द अब देशभर के मदरसों में रामायण और गीता की पढ़ाई होगी, साथ ही मदरसों के छात्र योग की भी ट्रेनिंग लेंगे. नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ ओपन स्‍कूलिंग (NIOS) प्राचीन भारतीय ज्ञान और परंपरा को लेकर 100 मदरसों में नया पाठ्यक्रम शुरू करने जा रहा है और इसकी पूरी तैयारी हो चुकी है. नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ ओपन स्‍कूलिंग का यह नया पाठ्यक्रम नई शिक्षा नीति का हिस्सा है. शिक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला एनआईओएस (NIOS) कक्षा 3, 5 और 8 के लिए बेसिक कोर्स की शुरुआत करेगा. इसकी शुरुआत फिलहाल 100 मदरसों से की जाएगी और भविष्य में इस कार्यक्रम को 500 मदरसों तक ले जाया जाएगा.

एनआईओएस दो राष्‍ट्रीय बोर्ड में एक से है, जो प्राइमरी, सेकंडरी और सीनियर सेकंडरी स्‍तर के कोर्स ओपन और डिस्‍टेंस एजुकेशन के जरिये कराते हैं. इसके योग के कोर्स मैटिरियल में पतंजलि कृतासूत्र, योगसूत्र व्‍यायाम, सूर्य नमस्‍कार, आसन, प्राणायाम, तनाव दूर करने वाले व्‍यायाम और स्‍मरण शक्ति बढ़ाने वाले व्‍यायाम शामिल हैं.
इसके विज्ञान कोर्स में जल, वायु, किसानी और वेद, उत्‍पत्ति का सूत्र, पृथ्‍वी और प्राकृतिक संसाधन संबंधी विषय हैं. एनआईओएस के असिस्‍टेंट डायरेक्‍टर (अकादमिक) शोएब रजा खान का कहना है कि यह पाठ्यक्रम सबके लिए उपलब्‍ध होगा. ओपन एजुकेशन सिस्‍टम के तहत छात्र इसका चुनाव करने के लिए स्‍वतंत्र होंगे. यह अनिवार्य नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here