नई दिल्ली: देश में अभी कोरोना महामारी (Corona Pandemic) का खौफ खत्म नहीं हुआ है कि एक नई बीमारी ने देश में दस्तक दे दी है. दरअसल, देश के कई राज्यों में पक्षियों में बर्ड फ्लू ( H5N1) की पुष्टि हुई है. राजस्थान, मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश में पक्षियों के मरने की खबरों के बाद प्रशासन अलर्ट हो चुका है.
बर्ड फ्लू के वायरस बेहद खतरनाक होते हैं और यह इंसानों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं. उधर, केरल में बर्ड फ्लू के बढ़ते प्रकोप को देखकर राज्य सरकार ने इसे आपदा घोषित कर दिया है.
राजस्थान में 170 से अधिक पक्षियों की मौत
राजस्थान कई जिलों में पक्षियों की मौत का सिलसिला जारी है. रविवार को अलग-अलग जिलों में 170 से अधिक पक्षियों की मौत हो गई. मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि बर्ड-फ्लू के मामले में सरकार लगातार निगरानी रख रही हैं. इसे प्रदेश में नहीं फैलने देंगे.
एमपी में 40,000 पक्षियों को मारना पड़ेगा
अधिकारियों ने कहा कि भोपाल में की गई नमूनों की जांच में बर्ड फ्लू के प्रकोप की पुष्टि हुई है. राज्य पशुपालन मंत्री के राजू ने तिरुवनंतपुरम में कहा कि सरकार उन किसानों को मुआवजे का भुगतान करेगी, जिनके घरेलू पक्षियों को बर्ड फ्लू के चलते मारा जाएगा. अधिकारियों ने कहा कि एच5एन8 वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए करीब 40,000 पक्षियों को मारना पड़ेगा.
हरियाणा में बड़ी संख्या में मुर्गियों की मौत
हरियाणा के बरवाला क्षेत्र में रहस्यमय तरीके से मर रहीं मुर्गियों की वजह से इलाके में एवियन फ्लू का भय है. यहां करीब एक लाख मुर्गी और चूजों की मौत हो चुकी है. मुर्गियों के रहस्यमय तरीके से मरने का सिलसिला 5 दिसंबर से शुरू हुआ था. बता दें कि बरवाला क्षेत्र के 110 मुर्गी फार्मों में से लगभग दो दर्जन फार्मों में मुर्गियों की रहस्यमय तरीके से मौत हो चुकी है. मुर्गियों की मौत के बाद अब पंचकूला जिला प्रशासन हरकत में आया है. राज्य के पशुपालन विभाग ने प्रभावित फार्मो में पाई गई मृत मुर्गियां के 80 सैम्पल इकट्ठे करके जांच के लिए जालंधर की रीजनल डिजीज डायग्नोस्टिक लैबोरेट्री में भेजे गए हैं.
कुल मिलकर कई उत्तर से मध्य और दक्षिण भारत तक कई राज्यों में बर्ड फ्लू पैर पसार चुका है. इन राज्यों में प्रशासन अलर्ट पर है. दूसरे राज्य भी एहतियात बरत रहे हैं.
पक्षियों में मिले वायरस कितने खतरनाक?
देश के अलग-अलग राज्यों में मरे पक्षियों में H5N8 और H5N1 वायरस मिले हैं. कुछ जगहों पर कौव्वों में H5N8 वाले वायरस मिले हैं. ये वायरस काफी संक्रामक होते हैं. आमतौर पर यह वायरस पक्षियों में ही पाया जाता है। विशेषज्ञों के मुताबिक पक्षियों से इस वायरस के इंसानों में मिलने के कोई सबूत नहीं है। लेकिन बावजूद इसके सबको सतर्क रहने की जरूरत है. यह वायरस प्रवासी पक्षियों से फैलता है। भारत में इस वक्त प्रवासी पक्षी काफी तादाद में हैं.

ये हैं लक्षण

बर्ड फ्लू के लक्षण आमतौर पर सामान्य फ्लू की तरह ही होते हैं। एच5एन1 ऐसा फ्लू है, जो पक्षी के फेफड़ों पर हमला करता है। इससे न्यूमोनिया का खतरा बढ़ जाता है. सांस का उखड़ना, गले में खराश, तेज बुखार, मांसपेशियों और पेट दर्द आदि इसके लक्षण हैं। छाती में दर्द और दस्त भी इसी के लक्षण हैं.

लोगों को सलाह

जिस इलाके में संक्रमण फैला है, उसमें जाते समय एहतियात बरतें. मास्क लगाकर ही जाएं। नॉनवेज खरीदते समय साफ-सफाई का खयाल रखें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here